सच्चे प्यार की कहानी : हर कठिन परीक्षा में खरा उतरता है सच्चा प्यार | True love story in hindi

दोस्तों, जीवन में सच्चे प्यार की चाहत हर किसी को होती है, चाहे वह लड़का हो या लड़की। सच्चा प्यार निजी स्वार्थ, छोटा बड़ा, अमीर गरीब, गोरा काला, इत्यादि भावनाओं से परे होता है और यह सिर्फ वही समझ सकता है जिसे असल में सच्चा प्यार हुआ हो। लेकिन सच्चा प्यार में उतना ही संघर्ष भी होता है खासकर जब उन्हें दूर रहना पड़े।


आज के इस आर्टिकल में मैं आपको सच्चे प्यार की कहानी (True love story in Hindi) बताने वाली हूं जिसे हमारे ही ब्लॉग के एक पाठक द्वारा भेजी गई है। इसमें मुख्य किरदार के नाम और जगह बदल दिए गए हैं लेकिन यह एक प्यार की सच्ची कहानी है।

सच्चे प्यार की कहानी

दोस्तों, किसी कहानी या पोस्ट को लिखने और आप तक पहुंचाने के लिए हमे बहुत मेहनत करनी पड़ती है इसलिए आपसे अनुरोध है कि कहानी पसंद आने पर आप इसे अपने दोस्तों या चाहने वालों के साथ जरूर साझा करें। तो चलिए जानते हैं आज के सच्चे प्यार की सच्ची कहानी जो आपके दिलों को छू लेगी।

शीर्षक: सच्चा प्यार कभी दूर नहीं हो सकता


एक छोटे से शहर में, एक लड़का और लड़की रहते थे। लड़के का नाम पीयूष था, और लड़की का नाम रिया था। दोनों एक ही कॉलेज में पढ़ते थे। दोनों की खास बात यह थी कि दोनों पढाई के प्रति संजीदा थे हालंकि रिया थोड़ी बहुत मस्ती भी किया करती थी। 

पीयूष एक अच्छा लड़का था। वह पढ़ाई में होशियार था, और खेलकूद में एवरेज और थोड़ा शर्मीला किस्म का था। रिया भी एक अच्छी लड़की थी। वह पढ़ाई में भी अच्छी थी, खूबसूरत भी थी और शायद पढाई के चलते ही हुए चस्मा भी लगा हुआ था। 

पीयूष और रिया पहली बार कॉलेज में मिले थे। वे एक ही क्लास में थे लेकिन अलग अलग सेक्शन में थे। वे एक-दूसरे को देखते ही प्यार में पड़ गए हालाँकि उन्हें सीधे तौर पर एक दूसरे से बोलने में 2 साल का वक्त लग गया ! हो गए ना हैरान।

ऐसे हुई थी प्यार की शुरुआत - सच्चे प्यार की कहानी

जैसा कि मैंने बताया, पियूष पढाई में अच्छा था तो कॉलेज की टॉपर लिस्ट में उसका नाम आता रहता था और यही से रिया का पियूष में इंटरेस्ट जागा हालंकि यह इंटरेस्ट सिर्फ दोस्ती के लिए था।

सच्चे प्यार की कहानी

एक रोज पियूष को फेसबुक चलाते हुए एक फ्रेंड रिक्वेस्ट दिखाई दी जिसे देखकर एक बार के लिए पियूष का दिल बहुत तेजी से धड़का। दरअसल यह रिक्वेस्ट रिया की तरफ से आयी थी और पियूष ने रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करने के बजाय उसे इग्नोर कर दिया (शायद भाव खाने के इरादे से)

हालांकि अगले दिन तक पियूष से भी इंतजार नहीं हुआ और उसने भी रिया की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ाते हुए उसे पहला मैसेज किया। कुछ वक्त बीत जाने पर उन्होंने एक दूसरे उन्होंने एक दूसरे का नंबर लिया और अब उनकी रोजाना घंटो बातें होने लगी।

ऐसे ही दो वर्ष बीत गए लेकिन उन्होंने एक दूसरे से कभी प्यार का इजहार नहीं किया और ना ही किसी को इस बारे में पता लगने दिया। वे फोन और व्हाट्सएप के जरिये अपने बिताए गए दिन और भविष्य की चर्चा करने के साथ ही पढ़ाई में भी एक दूसरे की मदद किया करते थे।


मुख्य सच्चे प्यार की कहानी की शुरुआत

पीयूष और रिया अक्सर एक-दूसरे से बात करते थे और समय बिताते थे। वे एक-दूसरे के साथ बहुत खुश थे। आप पढ़ रहे हैं सच्चे प्यार की कहानी (Sacche pyar ki kahani hindi me).

एक दिन, रिया ने पियूष को व्हाट्सएप पर प्रपोज किया (ऐसा बहुत कम होता है कि लड़की पहले प्रपोज करे) और पियूष ने भी देर न करते हुए रिया के प्रपोजल को हां कह दिया। वे दोनों बहुत खुश थे और उनका यह प्यार का बंधन और मजबूत हो गया था।

पीयूष और रिया ने एक-दूसरे से प्यार किया। वे एक-दूसरे के लिए हमेशा मौजूद थे। वे एक-दूसरे की खुशी के लिए कुछ भी करने को तैयार रहते थे।

कॉलेज के दिनों में, पीयूष और रिया ने कई सुखद पल बिताए। वे साथ में घूमते थे, फिल्में देखते थे, और पार्टियों में जाते थे। वे एक-दूसरे के साथ बहुत खुश थे।

लेकिन एक दिन, कॉलेज खत्म हो गया और अब वक्त था दोनों के बिछड़ने का। पीयूष को एक अच्छी नौकरी के लिए शहर जाना पड़ा। रिया को गांव में रहना था।

पीयूष को बहुत दुख हुआ कि उसे रिया से दूर जाना पड़ रहा है। लेकिन उसे अपनी नौकरी के लिए शहर जाना था। पीयूष और रिया ने एक-दूसरे से वादा किया कि वे एक-दूसरे से कभी नहीं अलग होंगे।

पीयूष शहर चला गया, और रिया गांव में रहने लगी। वे दोनों एक-दूसरे से फोन और इंटरनेट के माध्यम से बात करते थे।

पीयूष और रिया ने अपनी-अपनी जिंदगी में कामयाबी हासिल की। पीयूष एक सफल इंजीनियर बन गया, और रिया एक सफल डॉक्टर बन गई।

जब रिश्ते की डोर ढीली होने लगी

True love story in hindi

पीयूष और रिया ने कई सालों तक एक-दूसरे से दूर रहकर प्यार किया। उन्होंने एक-दूसरे की कमी को कभी नहीं महसूस नहीं होने दिया।

लेकिन एक दिन, रिया को पीयूष से दूरी महसूस होने लगी। उसे लगा कि पीयूष अब उससे उतना प्यार नहीं करता जितना पहले करता था।

रिया ने पीयूष से बात की। उसने पीयूष से कहा कि उसे लगता है कि उनका रिश्ता खत्म हो रहा है। New True Love story in hindi

पीयूष को बहुत दुख हुआ। उसने रिया को समझाया कि वह उससे बहुत प्यार करता है। लेकिन वह शहर में रहकर रिया के साथ खुश नहीं हो सकता था।

रिया को भी बहुत दुख हुआ। लेकिन वह पीयूष को नहीं रोक सकी। पीयूष और रिया ने एक-दूसरे से ब्रेकअप कर लिया। वे दोनों बहुत दुखी थे और उन्हें समझ नहीं आया क्या किया जाए।


निष्कर्ष - सच्चे प्यार की कहानी हिंदी में

पीयूष और रिया के ब्रेकअप के बाद, दोनों ने अपनी-अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने की कोशिश की। लेकिन उनके दिल में हमेशा एक-दूसरे के लिए प्यार था।

कुछ साल बाद, पीयूष को एक अच्छी नौकरी के लिए गांव वापस आना पड़ा। पीयूष को बहुत खुशी हुई कि वह रिया के पास वापस आ गया है। खास बात यह थी कि रिया आज भी पीयूष का इंतजार कर रही थी।

पीयूष ने रिया से माफी मांगी। उसने रिया को बताया कि वह अब उससे दूर नहीं रहना चाहता। रिया भी पीयूष से प्यार करती थी। वह भी पीयूष के साथ रहना चाहती थी।

पीयूष और रिया ने शादी कर ली। वे दोनों बहुत खुश थे। उन्होंने अपना जीवन एक साथ बिताने का फैसला किया। अपने पेरेंट्स की परमिशन के बाद पूरे रीती रिवाज के साथ शादी की और ख़ुशी ख़ुशी एक दूसरे के साथ रहने लगे। सच्चे प्यार में तकरार भले ही हो लेकिन यह कभी दूर नहीं हो सकता है।

पीयूष और रिया की कहानी एक सच्चे प्यार की कहानी है। यह कहानी हमें सिखाती है कि सच्चा प्यार कभी नहीं मरता और यह हमेशा जीत जाता है। उम्मीद है आपको यह ट्रू लव स्टोरी (True love story in Hindi) पसंद आई होगी। यह एक सच्ची घटना पर आधारित थी, आप अपने सुझाव हमें कमेंट करें।

Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post